WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

तेजाजी का इतिहास (Veer Tejaji) व देवनारायणजी (Devnarayanji) का इतिहास व उसके महत्वपूर्ण प्रश्न व उनके उत्तर

तेजाजी

  • जन्म – 1073, माघ शुक्ल चतुर्दशी को।
  • जन्म स्थान – खड़नाल या खरनाल (नागौर) 
  • पिता - ताहड़जी जाट
  • माता – राजकुँवरी या रामकुँवरी
  • जाति – नागवंशीय जाट
  • पत्नी - पेमलदे (पनेर के रामचन्द्र की पुत्री थी।)। 
  • सवारी - लीलण घोड़ी (सीनधारी)।
  • घोड़ला  - तेजाजी के पुजारी को घोड़ला कहते हैं।
  • उपनाम - काला और बाला के देवता, कृषि कार्य़ों के उपकारक देवता, गौरक्षक देवता। 
  • प्रतीक चिह्न - तेजाजी को तलवार धारण किए घोड़े पर सवार योद्धा के रूप में दर्शाया जाता है, जिनकी जीह्वा को सर्प डस रहा है।
  • तेजा गीत – किसान खेतों में हल जोतते समय तेजाजी के गीत गाते हैं।
  • तेजाजी ने लाछा गुजरी की गायों को मेर (वर्तमान आमेर) के मीणाओं से छुड़ाई।
  • सेन्दरिया (अजमेर) में जीभ पर साँप काटने से सुरसरा (अजमेर) में तेजाजी की मृत्यु हुई उनकी पत्नी पेमल भी उनके साथ सती हुई।
  • अजमेर व नागौर में विशेष पूजनीय।
  • मेला - प्रतिवर्ष तेजादशमी (भाद्रपद शुक्ल दशमी) को परबतसर (नागौर) में भव्य पशु मेला भरता है।
  • प्रमुख पूजा स्थल - सेंदरिया, भावतां, सुरसरा (अजमेर), परबतसर, खरनाल (नागौर) बासी दुगारी (बूँदी) में 
  • भारतीय डाक विभाग द्वारा वर्ष 2011 में तेजाजी पर डाक टिकट जारी किया गया।

देवनारायणजी

  • जन्म - 1243 ई. 
  • जन्म स्थान – आसींद, भीलवाड़ा
  • पिता – सवाईभोज
  • माता - सेढू देवी 
  • पत्नी - पीपलदे धारा नगरी में जयसिंह देव परमार की पुत्री पीपलदे
  • घोड़ा – लीलागर
  • वास्तविक नाम – उदयसिंह
  • जाति - बगड़ावत गुर्जर 
  • अवतार - विष्णु का 
  • उपनाम – औषधि का देवता
  • मेला – भाद्रपद शुक्ल सप्तमी 
  • प्रमुख मंदिर  -  
    • (1) सवाईभोज का मंदिर, आसीन्द, भीलवाड़ा 
    • (2) देवधाम मंदिर – जोधपुरिया, टोंक  
    • (3) देवडूंगरी मंदिर – चित्तौड़गढ़ इस मंदिर का निर्माण राणा सांगा द्वारा करवाया गया 
    • (4) देवमाली मंदिर -  ब्यावर,अजमेर  
  • इसे बगड़ावतों का गाँव कहा जाता है। 
  • उन्होंने यहाँ पर अपना अंतिम समय बिताया था।
  • देवनारायणजी के जन्म से पूर्व ही इनके पिता सवाईभोज, भिनाय के शासक से संघर्ष करते हुए अपने 23 भाइयों सहित शहीद हो गए। बाद में देवनारायणजी ने अपने पिता की मृत्यु का बदला लिया, जिसकी गाथा ‘बगड़ावत महाभारत‘ के रूप में प्रसिद्ध है।
  • फड़ - गुर्जर जाति के भोपे जंतर वाद्य यंत्र के साथ बाँचते हैं। 
  • जंतर वाद्य यंत्र को 100 मंतर (मंत्र) के समान माना गया है।
  • सबसे प्राचीन फड़, सबसे लम्बी फड़ (24 हाथ) तथा सर्वाधिक प्रसंगों वाली फड़ देवनारायण जी की फड़ है।
  • देवनारायणजी की फड़ में 335 गीत है। जिनका लगभग 1200 पृष्ठों में संग्रह किया गया है एवं लगभग 15000 पंक्तियाँ है।
  • वर्ष 1992 में भारतीय डाक विभाग ने देवनारायण जी की फड़ पर सर्वप्रथम 5 रु. का डाक टिकट जारी किया गया। भारतीय डाक विभाग द्वारा वर्ष 2010 में देवनारायण जी पर भी डाक टिकट जारी किया गया।- इनके मन्दिर में मूर्ति की बजाय ईंटों की पूजा नीम की पत्तियों के साथ होती है।
  • उन्होंने गायों की रक्षार्थ ही भिनाय के ठाकुर को मारा।

Q 1. वीर तेजाजी के पुजारी किस जाति के होते है ?

  1. माली
  2. कुम्हार
  3. ब्राम्हण
  4. मीणा

Q 2. वीर तेजाजी का जन्म कंहा हुआ था ?

  1. इमलोहा
  2. खड्नाल
  3. रिडी
  4. सुरसुरा

Q 3. वीर तेजाजी का देहावसान कंहा हुआ था ?

  1. इमलोहा
  2. खड्नाल
  3. रिडी
  4. सुरसुरा

Q 4. तेजाजी की घोड़ी का नाम क्या है ?

  1. नीली घोड़ी
  2. सियार
  3. नीला घोडा
  4. लीलन घोड़ी

Q 5. तेजाजी मुख्यत किस जिले के देवता है ?

  1. अजमेर
  2. भीलवाडा
  3. जैसलमेर
  4. जोधपुर

Q 6. परबतसर नागौर में तेजाजी का विशाल मेला कब भरता है ?

  1. भाद्रप्रद शुक्ला दशमी
  2. भाद्रप्रद कृष्णा नवमी
  3. भाद्रप्रद शुक्ला द्वितीय
  4. भाद्रप्रद कृष्णा द्वितीय

Q 7. निम्न में से कोनसा कथन असत्य है ?

  1. सुरसुरा अजमेर में तेजाजी की जागिर्ण निकली जाती है
  2. सर्प काटने का इलाज करने वाले तेजाजी के भोपे को घोडला कहते है
  3. तेजाजी की घोड़ी सीनधारी थी
  4. तेजाजी का मुख्या थान नागौर में है

Q 8. तेजाजी का वाहन क्या था ?

  1. खच्चर
  2. घोड़ी
  3. ऊंट
  4. शियार

Q 9. तेजाजी का प्रतिक क्या है ?

  1. पगल्या
  2. सर्प
  3. भाला
  4. हरा झंडा

Q 10. निम्न में से कौनसे लोक देवता पंचपीरो में शामिल नहीं है ?

  1. रामदेव जी
  2. गोगा जी
  3. पाबूजी
  4. तेजाजी

Q 11. खड्नाल नागौर का सम्बन्ध किस लोकदेवता से है ?

  1. रामदेव जी
  2. गोगा जी
  3. पाबूजी
  4. तेजाजी

Q 12. कोनसा युग्म असंगत है ?

  1. गोगाजी – देदरेवा (चुरू)
  2. तेजाजी – खड्नाल (नागौर)
  3. पाबूजी – कोलुमंड ( फलोदी)
  4. रामदेव जी – रुणिचा (जैसलमेर)

Q 13. निम्न में से किस लोकदेवता की शरण लेने पर सर्प विष का प्रभाव नहीं होता है ?

  1. गोगाजी
  2. तेजाजी
  3. रामदेव
  4. मेहाजी मांगलिया

Q 14. किसने लाछा गुजरी की गाय मेर के मीणाओ से छुडवाने के लिए अपने जीवन की आहुति दी.

  1. गोगाजी
  2. तेजाजी
  3. रामदेव
  4. मेहाजी मांगलिया

Q 15. काला एवं बाला तथा कृषि कार्यो का उपकारक देवता किसे माना जाता है ?

  1. गोगाजी
  2. तेजाजी
  3. रामदेव
  4. मेहाजी मांगलिया

Q 16. राजस्थान का वह पवित्र स्थल कोनसा है जहाँ धार्मिक मान्यताओ के अनुसार तेजाजी को सांप ने काटा था ?

  1. खड्नाल
  2. सेंदरिया
  3. ब्यावर
  4. डेगाना

Q 17. निम्न में से कोनसे देवता गौ रक्षा के लिए प्रसिद्ध नहीं है ?

  1. वीर बग्गा जी
  2. वीर पणराज जी
  3. मेहाजी
  4. उक्त में से कोई नहीं

Q 18. निम्न में से कोनसा कथन असत्य है ?

  1. देवनारायण जी (Lokdevta devnarayan ji ) का जन्म 1300 में बगडावत परिवार में हुआ था
  2. इनका जन्म का नाम वीरमदेव था
  3. इनकी पत्नी पिपलदे थी
  4. इनका स्वर्गवास देवमाली, ब्यावर में हुआ था .

Q 19. निम्न में से कोनसा देव नारायण जी (Lokdevta devnarayan ji ) का प्रमुख देवरा है ?

  1. देवमाली, ब्यावर
  2. देव धाम जोधपुरिया
  3. देव डूंगरी चित्तोड़
  4. उपरोक्त सभी

Q 20. देव नारायण जी का मेला कब भरता है ?

  1. भाद्पद्रशुक्ल 6 व 7
  2. भाद्पद्र शुक्ल 8
  3. भाद्पद्र अवमस्या
  4. भाद्पद्र कृष्णा 8

Q 21. देवनारायण जी की पड कोण बांचता है ?

  1. नायक भोपे
  2. गुजर भोपे
  3. कामड़ जाति के भोपे
  4. भाट जाति के भोपे

Q 22. देवनारायण जी के सम्बन्ध में कोनसा कथन असत्य है ?

  1. इन्हें देव बाबा के नाम से भी जाना जाता है
  2. इनका नाम उदयसिंह था
  3. इनकी प्रतिमा के स्थान पर बड़ी ईटो की पूजा की जाती है
  4. इनका प्रमुख देवरा गोठा दडावत ( भीलवाडा) में है

Q 23. देवनारायण जी के सम्बन्ध में निम्न से क्या सत्य है ?

  1. विष्णु का अवतार
  2. शिवजी का अवतार
  3. लक्षमण का अवतार
  4. बारिश के देवता

Q 24. देवनारायण जी का उपासना स्थल है ?

  1. गोगामेडी
  2. कोलुमंड
  3. आसींद
  4. बेंगटी
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url