WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

1. Introduction of Computer (कम्प्युटर का परिचय) e-book and Notes

1. कंप्यूटर का परिचय (Introduction to Computers) 

1.1 परिचय (Introduction )

कंप्यूटर एक मशीन (machine) है जिसका उपयोग हमारे जीवन के लगभग सभी क्षेत्रों में उपयोग किया जा रहा है । वेब प्रौद्योगिकी (Web technology), इंटरनेट (Internet) और मोबाइल (Mobile) फोन के विकास ने ज्ञान के नए आयाम स्थापित किये है और एक नयी विचार प्रक्रिया को जीवन दिया है। कंप्यूटर पर सतत अनुसंधान (regular research) एवं विकास (development) की गति को देखते हुए यह कह सकते हैं कि यह हमें जीवन में नए नए अनुभवों ( new experiences) से अवगत करवाता रहेगा।


पर्सनल कंप्यूटर (Personal Computer) गणना (calculation), डिजाइन (Design) और प्रकाशन प्रयोजनों (publishing purposes) के लिए छात्रों इंजीनियरों, रचनात्मक लेखकों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है । कंप्यूटर ने सीखने की प्रक्रिया को भी बेहतर ( enhance) किया है । विद्यार्थी कक्षा (class) में ही नहीं बल्कि जब वह यात्रा कर रहा हो, या PC (पर्सनल कंप्यूटर) के साथ घर पर बैठ कर भी अपनी पढाई कर सकता है । इंटरनेट प्रौद्योगिकी ( Internet Technology ) से हर व्यक्ति को सभी जानकारी प्राप्त होना संभव हुआ है । लोग अब पूछताछ (enquiries), बैंकिंग, खरीददारी (shopping) और कई अन्य कार्यों के लिए कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं । वर्तमान में हम सूचना सुपर हाइवे ( information superhighway ) के एक युग से गुजर रहे हैं जहां सभी प्रकार की जानकारी सिर्फ कंप्यूटर का एक बटन पर क्लिक करके उपलब्ध की जा सकती है ।

1.1.1 कंप्यूटरों का वर्गीकरण (Computer Classification) 

कंप्यूटर अपनी डेटा प्रसंस्करण क्षमता (data processing capabilities) के आधार पर वर्गीकृत (Classified) किया जा सकता है। कम्प्यूटर उनके उद्देश्य, डेटा को संभालने की क्षमता (data handling, functionality), कार्यक्षमता आकार (size), भंडारण क्षमता ( storage capacity) और प्रदर्शन के आधार पर वर्गीकृत किए गए हैं। (performance) ,


1.1.2 आकार, भंडारण क्षमता और प्रदर्शन के आधार पर वर्गीकरण (Classification based on Size, Storage Capacity and Performance) 

कंप्यूटर (Computer ) एक बड़े room के size में बहुत बड़ा और एक लैपटॉप के रूपमें छोटा हो सकता है या मोबाइल (mobile) (laptop) में माईक्रो नियंत्रक (micro controller) और एम्बेडेड सिस्टम (embedded system) तक के आकार के हो सकते हैं । कम्प्यूटर्स के चार प्रकार हैं: सुपर कंप्यूटर, मैनफ्रेम कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर और माइक्रो कंप्यूटर |

1.1.2.1 सुपर कंप्यूटर (Super Computer )

यह कंप्यूटर (super computer) डेटा के भण्डारण क्षमता (Storage Capacity), प्रदर्शन (performance) और डेटा प्रोसेसिंग (Processing) के मामले में सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर्स हैं। सुर होते कंप्यूटर बहुत ही खास कंप्यूटर्स होते हैं जो कि बड़ी खोज (research) और वैज्ञानिक उपयोग (scientific purpose) के लिय इस्तेमाल किए जाते हैं, जैसे कि नासा (NASA) द्वारा अंतरिक्ष यान को लॉन्च (launching space shuttles), उन्हें नियंत्रित (control) करने तथा अंतरिक्ष में खोज करने के लिए सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जा रहा है । इन कंप्यूटर्स कार्य करने के लिए बहुत ज्यादा जगह की जरुरत पड़ती है और ये अत्यधिक महंगें भी होते हैं । पहला सुपर कंप्यूटर (Super Computer) 1964 में बनाया गया था, जिसका नाम CDC 6600 था।

सुपर कंप्यूटर के उपयोग (Applications of Super Computers)

  • मौसम की भविष्यवाणी (Weather forecasting): इन कंप्यूटरों का उपयोग मौसम का अनुमान लगाने और भविष्यवाणी करने, बरसात तथा तूफान की तीव्रता का अध्ययन करने के लिए किया जाता है ।
  • भूकंप की जानकारी लेना (Earthquake studies) : सुपर कंप्यूटरों का उपयोग भूकंप घटना की खोज के लिए भी किया जाता है। इनका उपयोग प्राकृतिक गैस, पेट्रोलियम और कोयला जैसे संसाधनों की खोज करने के लिए भी किया जाता है ।
  • संचार (Communication) : ये कंप्यूटर्स विभिन्न उपकरणों (devices), मशीनों (machines) और व्यक्तियों के बीच संचार व्यवस्था को बढ़ाने ( enhancing the communication) बहुत सहायक सिद्ध होते हैं ।

इन कंप्यूटर्स के और भी बहुत सारे उपयोग हैं जैसे कि हथियारों के परीक्षण (weapon simulation) और नाभिकीय हथियारों (nuclear weapons) प्रभाव को जानने में । कुछ प्रसिद्ध सुपर कंप्यूटर्स है: के

  • IBM's Sequoia अमेरिका में
  • Fujitsu's K Computer जापान में
  • PARAM Super computer भारत में

1.1.2.2 मैनफ्रेम कंप्यूटर्स (Mainframe Computers) 

ये  Mainframe Computers काफी महंगे होते हैं और इनका इस्तेमाल सरकारी संस्थाओ (Government organizations) और बड़ी व्यवसायिक फर्म (large business firms) में या बिज़नस ऑपरेशन के लिए किया जाता है। ये कंप्यूटर बड़े कमरे में रखे जाते हैं जहां उचित शीतलन (proper cooling) एवं अन्य दूसरी सुविधाएँ उपलब्ध होती है | ये | य बहुत बड़ी मात्रा में उपलब्ध डेटा (large volume data) को बहुत तेज़ गति (high speed) से प्रोसेस कर सकते हैं । विशाल व्यावसायिक बैंक शिक्षण संस्थान और इंश्योरेंस कंपनियों में उनके ग्राहकों के डेटा को रखने के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर्स का उपयोग किया जाता है।

कुछ popular मैनफ्रेम कंप्यूटर्स (Mainframe Computer) है:

  • Fujitsu's ICL VME
  • Hitachi's Z800

1.1.2.3 मिनी कंप्यूटर्स (Mini Computers) 

मिनी कंप्यूटर्स (Mini Computers) प्राय: छोटे व्यापार में उपयोग में लिये जाते हैं हालांकि ये सुपर कंप्यूटर एवं मैनफ्रेम कंप्यूटर्स के समान शक्तिशाली ( powerful ) नहीं होते हैं लेकिन फिर भी ये शक्तिशाली (powerful) मशीनों की गिनती में आते हैं। इनका उपयोग बड़ी या मध्यम वर्ग की कंपनियों (big or middle range companies) और उत्पादन सदनों (production houses) में किया जाता है । ये कंप्यूटर्स एकल उपयोगकर्ता और बहु उपयोगकर्ता (single and multi users) की अवधारणा (concept) पर कार्य करते हैं । कुछ मिनी कंप्यूटर्स के उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • K-202 
  • Texas Instrument TI-990
  • SDS-92

1.1.2.4 माईक्रो कंप्यूटर (Micro Computers)

डेस्कटॉप कंप्यूटर्स (Desktop computers), लैपटॉप (laptops), PDAs, टैबलेट्स (tablets) और स्मार्ट फोन ( smart phones), ये सब माईक्रो कंप्यूटर (Micro Computers) के प्रकार हैं । ये कंप्यूटर्स widely इस्तेमाल किए जा रहे हैं तथा काफी तेज गति से रहे हैं । ये कंप्यूटर्स चारों बेसिक (basic) कंप्यूटर में से सबसे सस्ते होते हैं । ये एक सामान्य प्रकार के कार्य को करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं जैसे कि संचार, शिक्षा, मनोरंजन एवं अन्य दूसरे उद्देश्यों को ऑफिस कार्यको पूरा करने के लिए ।

  • त्वरित समीक्षा 
    • हम गति (speed ), भंडारण (Storage) और प्रदर्शन (performance )के आधार पर कंप्यूटर कैसे वर्गीकृत करते हैं?
    • पर्सनल कंप्यूटर (PC ) और सुपर कंप्यूटर (Super Computer )के बीच अंतर बताओ? 
    • भारत के पहले सुपर कंप्यूटर का नाम क्या है ?

1.2 कम्प्यूटर सिस्टम के लाभ (Benefit of Computer System) 

1.2.1 कंप्यूटर की विशेषताएं (Basic Benefits of Computer) 

1. स्पीड (Speed): 

कंप्यूटर बहुत ही उच्च गति (High Speed) पर डेटा को प्रोसेस (data process ) करता है। कंप्यूटर डेटा की एक बड़ी मात्रा (huge amount of data) को संसाधित (process) करने के लिए केवल कुछ ही सेकंड लेता है अर्थात लाखों निर्देशों को सेकंडों में ही संसाधित (process) किया जा सकता है।

2. शुद्धता (Accuracy): 

कंप्यूटर द्वारा उत्पादित परिणाम (produced result) पूर्णरूप से सही होते हैं । यदि कंप्यूटर में सही डेटा दर्ज किया गया है तो प्राप्त परिणाम एकदम सटीक होगा | कंप्यूटर GIGO (Garbage In Garbage Out) के सिद्धांत पर काम करता है । 

3. उच्च संचयन क्षमता ( High Storage Capacity): 

कंप्यूटर की मेमोरी बहुत अधिक (large memory ) होती है, और बड़ी मात्रा के डाटा को कॉम्पैक्ट ढंग ( Compact manner) से स्टोर कर सकते हैं । कोई भी जानकारी या डेटा कंप्यूटर में एक लंबे समय तक के लिए स्टोर रहता है | इस सुविधा के साथ, (repetition) पुनरावृत्ति से बचा जा सकता है। 

4. विविधता (Versatility): 

कंप्यूटर अनेक प्रकार के कार्यों को करने में उपयोग किया जा सकता है, जैसे की हम पत्र लिखने (write letters) के लिए, पत्रक तैयार करने ((prepare sheets), संगीत सुनने, वस्तु सूची के प्रबन्धन (prepare inventory reports), अस्पताल प्रबंधन (hospital management), बैंकिंग और कई और सकते हैं ।

5. परिश्रमशीलता (Diligence) : 

कंप्यूटर एक मशीन होने के नाते थकान (fatigue), एकाग्रता (concentration) की कमी कमी और बोरियत (boredom ) से मुक्त होता है | कंप्यूटर जिस गति से पहले निर्देश को संसाधित (Process) करता है, उसी गति से आखिरी निर्देश को संसाधित (Process) करने में सक्षम (capable) होता है ।

1.2.2 लिमिटेशन (Limitations): 

कम्प्यूटर एक मूक (Dumb) मशीन है और वह स्वयं कुछ नहीं कर सकता है। कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन (electronic device) है जोकि डाटा को ग्रहण करने की क्षमता रखता है एवं दिए हुए दिशा निर्देशों की पालना करते हुए इनफार्मेशन या सिग्नल के रूप में आउटपुट देता है | एक ( unanticipated situation) में कंप्यूटर अपने आप कोई भी निर्णय नहीं ले सकता है। निर्देशों के क्रम को कंप्यूटर स्वयं नहीं बदल सकता है | कम्प्यूटर का आई.क्यू. (Intelligent Quotient) नहीं होता है।

1.3 हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर (Hardware & Software) 

1.3.1 सॉफ्टवेयर ( Software)

हम कंप्यूटर की मदद से विभिन्न प्रकार के कार्यों को संपन्न कर सकते है । असल में सभी प्रक्रियाएँ (processes) सॉफ्टवेयर की मदद से की जाती है जो किसी एक सेकण्डरी मेमोरी डिवाइस (secondary memory device) हो जाती है। सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (programs) का सॉफ्टवेयर प्रोग्रामों का संग्रह है जो एक विशेष के लिए लिखा गया है। प्रोग्राम , , में संग्रहित ( store) एक और नाम है। प्रयोजन (purpose) (program) एक निर्देशों का समूह (set of Instructions ) है जो की किसी विशेष प्रोग्रामिंग भाषा (Programming Language ) में लिखा गया है । सॉफ्टवेयर के दो प्रमुख प्रकार हैं: सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (System Software and Application Software) | इन दोनों सॉफ्टवेयरों के अपने अपने कार्य क्षेत्र है।

1.3.1.1 सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) 

सिस्टम सॉफ्टवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो पहले उपयोगकर्ता (User) से सूचना का आदान प्रदान करता है और फिर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software) के साथ काम करता है । सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को अपने आंतरिक संसाधनों (Internal Resources) का प्रबंधन करने में मदद करता है | सिस्टम सॉफ्टवेर सिर्फ एक प्रोग्राम नहीं है, बल्कि कई प्रोग्रामों का एक संग्रह है। सिस्टम प्रोग्राम्स के महत्वपूर्ण निम्न प्रकार है: घटक (Component) निम्न प्रकार है।

ऑपरेटिंग सिस्टम (O.S.): ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो की कंप्यूटर हार्डवेयर (hardware) और सॉफ्टवेयर (Software) संसाधनों (सीपीयू (CPU), मेमोरी ( memory) इनपुट(Input) और आउटपुट (Output) आदि) का प्रबंधन और कंप्यूटर प्रोग्राम के लिए आम सेवाएं प्रदान करता है। यह कंप्यूटर और उपयोगकर्ता (User) के बीच एक इंटरफेस (Interface) प्रदान करता है । विंडोज ओएस (Windows OS) कंप्यूटर पर सबसे अधिक और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम में से एक है 1 लिनक्स (Linux) और यूनिक्स ओएस (Unix OS) भी कुछ विशेष प्रकार की एप्लीकेशन में इस्तेमाल किया जाता है । वे कई प्रकार के होते हैं, जैसे एम्बेडेड (embedded), वितरित (distributed), वास्तविक समय (real time) आदि |

यूटिलिटीज (Utilities) : यूटिलिटीज विभिन्न प्रकार की सेवाएँ हैं जो की ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा प्रदान की जाती हैं। यूटिलिटीज जैसे डिस्क फ्रेग्मेंटर अवांछनीय फ़ाइल (disk defragmenter) (undesirable file) को हटाने एवं डिस्क के संसाधनों को पूर्ण रूपसे काम में लेने के लिए उपयोगी होती हैं | इस सुविधा के द्वारा हम डिस्क स्पेस (Disk Space) को भी व्यवस्थित कर सकते हैं 

डिवाइस ड्राइवर (Device drivers ) : ये एक तरह के विशेष प्रोग्राम होते है जो अन्य इनपुट और आउटपुट डिवाइस को बाकी के कंप्यूटर प्रणाली के साथ संवाद (Communicate) करने की अनुमति प्रदान करते है |

सर्वर (Servers ) : सर्वर की आवश्यकता तब पड़ती है जब अलग अलग यूजर (User) द्वारा  किये गये अनुरोधों को पूरा करने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रोग्राम को रन करने की जरुरत होती है।

1.3.1.2 एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर वो सॉफ्टवेयर है जो विशेष रूपसे उपयोगकर्ताओं (Users) के लिए तैयार किये जाते है – इनको एंड यूजर प्रोग्राम्स (End User Program) भी कहते है । कुछ प्रोग्राम्स जैसे डाटाबेस प्रोग्रामप्रोसेसर वेब ब्राउज़र एक्सेल एप्लीकेशन सॉफ्टवेर (database programs, word processors, Web browsers and spreadsheets की श्रेणी में आते है | इन प्रोग्रामों कों बेसिक या स्पेशलाइज्ड एप्लीकेशन (Specialised Application) के रूपमें वर्गीकृत किया जा सकता है। 

बेसिक एप्लीकेशन (Basic Applications ) : इन एप्लिकशनों को व्यापक रूपसे जीवन के लगभग सभी क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है: 

  • व्यापार ( Business )
  • शिक्षा (Education )
  • चिकित्सा विज्ञान (Medical Sciences)
  • बैंकिंग (Banking)
  • इंडस्ट्रीज (Industries)

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का उपयोग आप अनेक कामों के लिये कर सकते है जैसे संदेश भेजने (Sending message), दस्तावेज़ (document) तैयार करने, स्प्रेडशीट (Spreadsheet) बनाना, डेटाबेस (Database), ऑनलाइन शॉपिंग (Online Shopping) आदि | एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कि इस तरीके से तैयार किये जाते है जिससे उपयोगकर्ता के लिये काम करना आसान हो जाता है। उदाहरण के लिए यदि कोई उपयोगकर्ता किसी भी वर्ड (MS Word) फ़ाइल बनाता तो उसे margin, line spacing, font से साइज़ पहले से ही सेट मिलता है जिसे वो अपने अनुसार चेंज कर सकता है| उपयोगकर्ता (यूजर) डॉक्यूमेंट में रंग भरने, शीर्षकों और तस्वीरें आवश्यकता अनुसार जोड़ सकते हैं ।

उदाहरण: - एक वेब ब्राउज़र एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेर ही जिसे विशेष रूप से इंटरनेट पर पाई जाने वाली इनफार्मेशन एवं कंटेंट खोजने के लिए तैयार किया गया है।

वेब ब्राउज़र के नाम ( Browsers names) : इंटरनेट एक्सप्लोरर (Internet Explorer), मोज़िला फायरफोक्स (Mozilla Firefox), गूगल क्रोम (Google Chrome) एवं सफारी (Safari)

स्पेशलाइज्ड एप्लीकेशन (Specialized Applications) में हजारों अन्य प्रोग्राम है जोकि विशिष्ट विषयों और व्यवसायों पर ध्यान केंद्रित करते है । कुछ सबसे अच्छे प्रोग्राम्स है ग्राफिक्स, ऑडियो, वीडियो, मल्टीमीडिया वेब लेखन, और कृत्रिम बुद्धि (artificial intelligence)    

उपयोगी जानकारी

एक सॉफ्टवेयर सूट (software suite ) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयरों का एक समूह है जो सम्बंधित फंक्शनलिटी (functionality ) के लिये बना होता है | उदाहरण के लिए ऑफिस सॉफ्टवेयर सूट (Office Software Suites) में वर्ड प्रोसेसिंग, स्प्रेडशीट, डेटाबेस, प्रेजेंटेशन और ईमेल शामिल हो सकते है ।

त्वरित समीक्षा

  • कुछ एप्प्लिकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software) के नाम बताईये । 
  • वेब ब्राउज़र (Web browser) क्या है ?

1.3.2 हार्डवेयर (Hardware)

हार्डवेयर - एक सामान्य शब्द है जोकि कंप्यूटर प्रणाली के किसी भी घटक (Component) की उपस्थिति (physical presence) का वर्णन करने के लिए, जिसे देखा और छुआ जा सके । इसमें कंप्यूटर केस, मॉनीटर, कीबोर्ड और माउस भी शामिल है। इस तरह से कीबोर्ड माउस, मॉनिटर, प्रिंटर, मदरबोर्ड मेमोरी चिप्स, इलेक्ट्रॉनिक सर्किट एक्सपेंशन कार्ड केबल, स्विच (monitor, computer case, keyboard, printers, electronic circuitry, memory chips, motherboard, expansion cards, , cables, switches ) जिसे आप छू कर महसूस कर सकते है वे उपकरण शामिल हैं।

हार्डवेयर कंपोनेंट्स ((components) को अक्सर इनपुट, आउटपुट, स्टोरेज या प्रोसेसिंग कंपोनेंट्स (components) के रूपमें वर्गीकृत कर सकते हैं । हार्डवेयर कंपोनेंट्स जो सीपीयू (CPU) का एक अभिन्न हिस्सा नहीं हैं उन्हें पेरिफेरल उपकरणों (peripheral devices) के रूपमें संदर्भित किया जाता है. पेरिफेरल उपकरणों को आमतौर पर इनपुट, स्टोरेज या आउटपुट (जैसे हार्ड डिस्क कीबोर्ड या प्रिंटर) के लिए उपयोग किया जाता है ।

इनपुट डिवाइस (Input Device) एक ऐसी हार्डवेयर डिवाइस है यूजर से इनफार्मेशन ( information ) स्वीकार करती है, इनफार्मेशन को इलेक्ट्रिकल सिग्नल (electrical signals) में कन्वर्ट करती है और उसके बाद प्रोसेसर को संचारित (transmit)) करती है | इनपुट डिवाइस का मुख्य कार्य मनुष्य (Humans) को कंप्यूटर के साथ इंटरेक्शन करवाना होता है | उदाहरण के लिए अगर आप कंप्यूटर पर गेम खेल रहे हो तो माउस पॉइंटर (यूजर इंटरफेस के डिजाइन में एक आम तत्व) के द्वारा आप नेविगेशन कण्ट्रोल कर सकते है |

आउटपुट डिवाइस (Output devices) कंप्यूटर सिस्टम से इनफार्मेशन लेता और ऐसी रूपमें परिवर्तित करता है जिसको मनुष्यों (Humans) द्वारा आसानी से समझा जा सकता है । उदाहरण लिए मॉनिटर यूजर के लिए के प्रोसेसर के द्वारा प्रोसेस की गयी इनफार्मेशन को विसुअल डिस्प्ले (Visual display) के द्वारा दिखाता है प्रोसेसिंग डिवाइस (Processing devices ) कंप्यूटर के भीतर इनफार्मेशन की प्रोसेसिंग के लिए जिम्मेदार कंपोनेंट हैं। इनमे सीपीयू मेमोरी और मदरबोर्ड डिवाइस शामिल हैं । 

स्टोरेज डिवाइस (Storage devices) एक ऐसा कंपोनेंट हैं जो कंप्यूटर के भीतर डेटा संग्रहीत करने की अनुमति प्रदान करता है। इनमे हार्ड डिस्क ड्राइव और कॉम्पैक्ट डिस्क ड्राइव शामिल हैं।

घटक (Component) Example ( उदाहरण)
इनपुट (Input) ट्रैकबॉल, टच पैड, माइक्रोफोन, कीबोर्ड सेंसर, माउस, जोस्टिक, स्केनर, वेब केमरा (Trackball, Touchpad, Microphone, Keyboard, Sensors, Mouse, Joystick, Scanner, Web Cam)
प्रोसेसिंग (Processing) मदरबोर्ड, प्रोसेसर (सीपीयू), मेमोरी (Motherboard, Processor (CPU), Memory)
आउटपुट (Output) मॉनिटर, प्रिंटर, हैडफ़ोन, स्पीकर, टचस्क्रीन प्रोजेक्टर इत्यादि (Monitor, Printer, Headphone, Speaker, Touchscreen, Projectors etc.)
स्टोरेज (Storage) हार्ड डिस्क ड्राइव (Hard Disk Drive)

टेबल 1.2 हार्डवेयर के प्रकार ( Summary of Hardware Types )

1.4 कंप्यूटर के उपयोग (Uses of Computers)

कंप्यूटर का उपयोग हमारे जीवन में व्यापक हो गया है कंप्यूटर और उसके संबंधित उपकरणों के बिना हमारे जीवन की कल्पना करना मुश्किल है। कंप्यूटर ने हमारे जीवन को आसान ( easy), सरल (Simple), कुशल(efficient) और उत्पादक (productive) बना दिया है | कंप्यूटर आज लगभग सभी क्षेत्रों मे जैसे शिक्षा, चिकित्सा, वैज्ञानिक अनुसंधान, प्रशासन, परिवहन, रेलवे, रोडवेज, संचार, व्यापार, मनोरंजन, घर , अस्पतालों (education, medicine, scientific railways, research, governance, transportation, roadways, communication, business, entertainment, home, hospitals ) आदि में इस्तेमाल किया जा रहे है ।

1.4.1 घरों मे कंप्यूटर का उपयोग (Use of Computers in Home) 

आज कंप्यूटर घर में विभिन्न प्रयोजनों ( various purposes) के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। कुछ उदाहरण नीचे दिए गए हैं: 

स्कूली बच्चों के लिए होमवर्क (Homework for school children): 

बच्चे दस्तावेज बनाने (create document), कार्यपत्रकों (excel worksheets), पावर प्वाइंट (PPT) प्रस्तुति, स्कूल के काम और परियोजनाओं को पूरा करने के लिए इंटरनेट आदि के लिए कंप्यूटर का प्रयोग कर रहे है ।

मनोरंजन ( Entertainment) : 

कंप्यूटर का उपयोग फिल्मों और वीडियो देखने, संगीत को सुनने कंप्यूटर गेम खेलने, लाइव स्ट्रीमिंग वीडियो (live streaming videos ) देखने और कई अन्य गतिविधियों मनोरंजन और रिक्रिएशन के लिए किया जा सकता है। ,

सामाजिक मीडिया (Social Media ): 

लोग सामाजिक मीडिया उपकरणो (Social Media tools) का अनुप्रयोगों जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम और गूगल प्लस का उपयोग दोस्तों के साथ चैट और वीडियो चैट करने मे उपयोग कर रहे है ।

ज्ञान (Knowledge ): 

लोग कौशल और ज्ञान को बढ़ाने के लिए इंटरनेट की मदद ले सकते हैं। जहाँ ( इंटरनेट पर) उपलब्ध वेबसाइटों, किताबें, ट्यूटोरियल और प्रासंगिक दस्तावेज शैक्षिक और सूचनात्मक सामग्री पढ़ने या डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध हैं।

1.4.2 शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का प्रयोग (Use of Computers in Education)

कंप्यूटर ने शिक्षा के क्षेत्र को पूरी तरह से बदल दिया है और शिक्षा प्रदान करने के लिए कई नए रास्ते खोल दिये है।

स्मार्ट क्लास ( Smart Classes): 

आज परंपरागत कक्षाओं को आधुनिक स्मार्ट कक्षाओं में परिवर्तित किया जा रहा है। शिक्षक छात्रों को पढ़ाने के लिए इंटरेक्टिव मीडिया, चित्र वीडियो एनिमेशन, प्रस्तुतियों, सिमुलेटेड (Simulated) कंटेंट और स्मार्ट सामग्री का उपयोग कर रहे हैं । यह छात्रों को अवधारणाऐ (कॉन्सेप्ट्स) समझाने और एक लंबे समय के लिए ज्ञान बरकरार में मदद करता है इसके अतिरिक्त ई आर पी (ERP) स्कूल गतिविधियों, शिक्षकों और छात्रों के प्रदर्शन को ट्रैक कर स्वचालित स्कोर कार्ड पैदा करते हैं और विभिन्न स्तरों पर प्रदर्शन का विश्लेषण कर स्कूल प्रशासन की गतिविधियों में मदद करने के उपयोग में लिया जाता है ।

ऑनलाइन शिक्षा (online education): 

Computers ने पारंपरिक शिक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के अलावा, एक नई शिक्षा प्रतिमान (a new education paradigm) "ऑनलाइन शिक्षा" को जन्म दिया है जिसके द्वारा शैक्षिक प्रमाणपत्र डिप्लोमा और डिग्री कोर्स संचालित किये जा रहे है । छात्र एक कोर्स डिग्री या प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र कंप्यूटर और इंटरनेट कनेक्शन की मदद से घर बैठे ऑनलाइन मोड का उपयोग कर प्राप्त कर सकता हैं। ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली छात्रों को कई लाभ प्रदान करती है जो वे पारंपरिक शिक्षा प्रणाली में नहीं प्राप्त कर सकते है। यही कारण है कि आज लाखों लोग ऑनलाइन शिक्षा का पालन कर रहे है और इस मामले में इनकी संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।

डिजिटल लाइब्रेरी ( Digital Library ) : 

स्कूल की किताबें और सामग्री को डिजीटल और ई-पुस्तक (सॉफ्ट कॉपी) में परिवर्तित करके छात्रों को प्रदान किया जा रहा हैं। पत्रिकाओं जर्नल्स । पत्रिकाओं जर्नल्स. ब्रोशर और लेख (आर्टिकल्स) के ऑनलाइन उपलब्ध होने के कारण छात्र इन्हें कही भी कभी भी इन्टरनेट के ज़रिये पढ़ सकते है | पुस्तकालयों के सभी फंक्शन (जैसे बुक को इशू करना, बुक को वापस करना आदि) को कंप्यूटर के द्वारा स्वचालित किया जा रहा है |

अनुसंधान / परियोजनाए (Research / Projects) : 

कंप्यूटर छात्रों को अपनी परियोजना और शोध कार्यों को करने में मदद करता है। आज कंटेंट, डेटा और नॉलेज ऑनलाइन उपलब्ध हैं जिससे किसी भी विषय में पर्याप्त मात्रा जानकारी को उपलब्ध कर अपने अनुसंधान को आगे बढ़ाने का काम सुविधाजनक हो गया है।

1.4.3 कंप्यूटर का व्यवसाय में उपयोग (Use of Computers in Business )

प्रतियोगी दुनिया में, कंप्यूटर स्वचालन (automation) कार्यालय दक्षता और उत्पादकता बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी है । आज कंप्यूटर का प्रयोग व्यापार की लागत को कम करने और ग्राहकों की संतुष्टि बढ़ाने के लिए किया जा रहा है । कई अत्याधुनिक ऑफिस ऑटोमेशन उत्पादन (products) बाजार में उपलब्ध (available) है जिसका उपयोग बिज़नसमें किया जा सकता है।

संचार (Communication) : 

यह व्यापार का एक महत्वपूर्ण पहलू है जहां ईमेल, त्वरित संदेश (instant messaging), संपर्क प्रणाली ( contact systems), वीओआईपी (Voice over Internet Protocol), वीडियोचेट (video chats) आदि का उपयोग / अनुप्रयोग कर्मचारियों ग्राहकों विक्रेताओं और प्रबंधन के बीच संचार के लिए किया जा रहा है। कंपनियों आउटलुक (Outlook) के उपयोग से email, , १ को event और track meeting schedule कर सकती हैं । स्काइप, गूगल हैंगआउट (Skype, Google Hangouts) और इसी तरह के कार्यक्रमों से आप दुनिया भर में लोगों के साथ दूरदराज चैट, वीडियो बैठकें भी आयोजित करने की क्षमता रख सकते है । ये संचार प्लेटफार्मों जैसे स्मार्टफोन और टैबलेट पर भी काम करते हैं । उन्नत कम्प्यूटरीकृत फोन सिस्टम automated support और एक आभासी ऑपरेटर (Virtual Operator) की तरह तेजी से सही विभाग को कॉल connect कराने की सुविधा प्रदान करता है ।

बिक्री एवं विपणन (Sales & Marketing): 

कंप्यूटर व्यवसायों में योजना को लागू करने, उन्हें इम्प्लेमेंट करने, बिक्री और विपणन गतिविधियों (sales & marketing) को ट्रैक और रिपोर्ट करने में किया जाता है। वेबसाइटों को बनाना, डिजिटल विज्ञापन व कैंपेन लांच करना, ये सब सॉफ्टवेर की सहायता से किया जा रहा है। विज्ञापन बनाने से लेकर विज्ञापन अभियान बनाने तक, उपभोक्ताओं से संपर्क कर डेटा इकट्ठा करने और डेटा का विश्लेषण करने तक, सब कुछ विशेष उपकरण और सॉफ्टवेयर के द्वारा तैयार किया जाता है । "डिजिटल विपणन" (Digital Marketing) एक buzzword जिसके द्वारा प्रोडक्ट्स की टार्गेटेड, मेसरेबल (measurable) एवं इंटरैक्टिव मार्केटिंग की जाती है और डिजिटल तकनीक को इस्तेमाल करके उपभोक्ताओं तक पहुंचा जाता है एवं उपभोक्ताओं को बरक़रार रखने की कोशिश की जाती है Digital Marketing में मोबाइल और पारंपरिक टीवी और रेडियो के अलावा, इंटरनेट को मुख्य प्रचार माध्यम के रूप में उपयोग में लिया जाता है | कुछ इस्तेमाल होने वाले ऑनलाइन चैनल्स निम्न प्रकार से है: |

  • संबद्ध विपणन (Affiliate Marketing) 
  • प्रदर्शन विज्ञापन (Display advertising)
  • ईमेल विपणन (Email Marketing)
  • खोज विपणन ( Search Marketing)
  • सोशल मीडिया (Social Media)
  • सोशल नेटवर्किंग (Social Networking) 
  • खेल द्वारा विज्ञापन ( Game Advertising) 
  • वीडियो विज्ञापन (Video Advertising )

वित्त एवं ऑफिस (Finance & HR): 

आम तौर पर कंपनियों के स्वचालित (automated) वित्त (फाइनेंस) और मानव संसाधन (human resources - HR) कार्यों को संभालने के लिए ईआरपी (Enterprise Resource Planning) packages का उपयोग किया जाता है । इन पैकेजों में वित्तीय लेखांकन (financial accounting), सामान्य बहीखाता (general ledger) की तरह सभी महत्वपूर्ण कार्यों जैसे, प्राप्य खातो (accounts receivable), देय खातों (accounts payable), कराधान (taxation), ( taxation), संपत्ति लेखांकन (asset accounting), पेरोल, भर्ती (payroll, recruitment), लाभ (benefits), प्रदर्शन और मानव मूल्यांकन (performance & appraisals) आदि का ख्याल रखा जाता है। वित्त और मानव संसाधन के अलावा ईआरपी मॉडूयल बिक्री (sales), योजना (planning), और प्रशासन (administration) के इन्वेंटरी, संचालन संचालन (operations) रुप में भी आता है।

शिक्षा और प्रशिक्षण ( Education & Training) : 

व्यापार ( जगत कर्मचारियों को उपयोग प्रक्रियाओं (train & educate employees on processes), तकनीकी विषयों (technical Subjects), व्यावसायिक विषयों ( business subjects), कंपनी की नीतियों (company policies), सुरक्षा व मानक प्रक्रियाओं standard procedures and safety) के बारे में शिक्षित करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है | कंप्यूटर का उपयोग कर्मचारियों को eLearning platform and eContent का इस्तेमाल करके शिक्षित करने व प्रशिक्षण में किया जाता है जिसमे कर्मचारी अपने स्वयं की ट्रेनिंग अपने हिसाब से प्लान कर सकता है तथा वह ऑनलाइन आकलन द्वारा तुरंत प्रमाणित भी हो सकता है ।

बहुविकल्पी प्रश्न

Q 1. निम्न में से कौन सा एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर नहीं है ?

  1. विंडोज 7
  2. पेजमेकर
  3. नोटपैड
  4. फ़ोटोशॉप

Q 2. निम्नलिखित में से कौन सा, कंप्यूटर हार्डवेयर को चलाता है और अन्य सॉफ़्टवेयर चलाने के लिए एक मंच के रूपमें कार्य करता है ?

  1. ऑपरेटिंग सिस्टम
  2. अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर
  3. ए और बी
  4. उपरोक्त में से कोई भी नहीं

Q 3. एक आउटपुट डिवाइस का एक उदाहरण है :

  1. स्कैनर
  2. प्लॉटर
  3. टेप
  4. सॉफ्टवेयर

Q 4. निम्न में से कौनसी कंप्यूटर सिस्टम की एक सीमा है?

  1. स्पीड
  2. शुद्धता
  3. परिश्रम
  4. बुद्धि का अभाव

Q 5. निम्न में से कौन सा एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है ?

  1. विंडोज 7
  2. पेजमेकर
  3. नोटपैड
  4. फ़ोटोशॉप

Q 6. "मेनफ्रेम कंप्यूटर बहुत सस्ते हैं”, इस कथन का उत्तर निम्न विकल्पों में से चुने :

  1. सही
  2. गलत

Q 7. कौन सा कंप्यूटर वर्गीकरण नहीं है ?

  1. मेनफ्रेम
  2. मैक्सफ्रेम
  3. मिनी
  4. नोटबुक

Q 8. सबसे तेज कंप्यूटर कौन सा है?

  1. मेनफ्रेम
  2. माइक्रो कंप्यूटर
  3. वर्कस्टेशन
  4. सुपर कंप्यूटर
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url