Lok Devta (लोक देवता) | Ramdev Ji (रामदेव जी) का इतिहास और महत्वपूर्ण प्रश्न

नोट :- हड़बूजी और रामदेवजी दो मौसेरे भाई थे एवं जिसमें सबसे लोकप्रिय लोक देवता रामदेव जी हैं ।

रामदेव जी 

  • आनंदपाल के वंशज 
  • तंवर वंशीय
  • इन्हें कृष्ण भगवान का अवतार माना जाता है 
  • इनका जन्म की तिथि भाद्रपद शुक्ल द्वितीय को "बाबे री बीज" कहा जाता है 
  • इसका जन्म उडुकासमेर गांव, शिव तहसील (बाड़मेर)  1462 ई॰ में हुआ 
  • दो सगी बहनें थी - लाछा बाई, सगुना बाई
  • मुंह बोली बहन - डाली बाई  (मेघवाल जाति)
  • इनके गुरु का नाम - बालीनाथ 
  • बालीनाथ का मंदिर - मसुरिया (जोधपुर)
  • घोड़े का नाम - लीला घोड़ा (रेंवत) था जो हरे रंग का था 
  • उपनाम - रामसा पीर, रुणेचा रा धणी व पीरां रा पीर, रुणेचा रा श्याम
  • रामदेव जी के भक्तो द्वारा ब्यावला गीत गाये जाते है

नोट -

लोक देवता का नाम घोड़े का नाम
तेजाजी लीलन घोड़ी
गोगाजी नीला घोड़ा
पाबू जी केसर कालमी घोडा

  • इनको कुष्ठ रोग निवारक और हैजा रोग निवारक माना जाता है 
  • रामदेव जी द्वारा "रुणिचा/रुणेचा" (jod) में जीवित समाधि ली गई थी 
  • इन्हें "कामडिया पंथ" का प्रवर्तक कहा जाता है 
  • रामदेव जी के द्वारा जो चमत्कार दिखाए गए थे उन चमत्कार को "परचा देना या परचा" कहा जाता है 
  • जिस में सबसे प्रसिद्ध चमत्कार मक्का से चल कर आये "अरब के पंच पीरों" का है जो इन्होंने पंच पिपली रामदेवरा से 12 किलोमीटर दूर जैसलमेर नामक स्थान पर दिखाया था 
  • रामदेव जी के द्वारा पश्चिमी राजस्थान में पेयजल संकट को देखते हुए "रामसरोवर" खुदवाया था अथवा रामसरोवर का निर्माण करवाया यह रुणेचा जैसलमेर में है।
  • जिस के उत्तरी किनारे पर बाबा रामदेव जी ने समाधि ली थी 
  • बाबा रामदेव जी के बगल में डाली बाई की समाधि है 
  • डाली बाई की समाधि के पास ही डाली बाई का कंगन है जो पत्थर का बना है 
  • यही पास में परचा बावड़ी है जिसका निर्माण 1840 में "बाणिया बायता" ने करवाया था 
  • गुरु बालीनाथ का घूणा/आश्रम पोकरण (जैसलमेर) में है
  • इसे हिंदू मुस्लिम एकता के प्रतीक माना जाता है 
  • वर्तमान में रामदेव जी का मंदिर रुणिचा जैसलमेर में है का निर्माण  1931 ई॰ महाराजा गंगा सिंह द्वारा करवाया गया था 
  • पोकरण जैसलमेर में भी एक रामदेव जी का मंदिर है जो लाल पत्थर से निर्मित है का निर्माण मालदेव जोधपुर वाले ने करवाया था।
  • रामदेव जी को हिंदू मुस्लिम सांप्रदायिकता का दूत माना जाता है अतः इन्हें रामसा पीर,  पीरों का पीर कहा जाता है। 
  • रामदेवजी ने शुद्धि आंदोलन चलाया जिसमे हिन्दू जिंहोने मुस्लिम धर्म अपनाया था उनको वापस हिन्दू धर्म मे लाना।

कामडिया पंथ :-

  • प्रवर्तक - रामदेव जी 
  • इस संप्रदाय में मुख्य थे मेघवाल जाति के लोग हैं जिन्हें रिखीयां भी कहा जाता है।
  • रामदेव जी के लिए जो रात्रि जागरण के जाता है उसे जम्मो/जमो/जम्मा कहते हैं 
  • रामदेव जी के एक पंचरंगी पताका (झंडी) को नेजा कहते हैं जो जातरू द्वारा मंदिर पर चढ़ाने के लिए ले जाए जाती है 
  • रामदेव जी की भक्ति मे कामड़ पंथ की महिलाओं द्वारा तेरहताली नृत्य किया जाता है 
  • तेरहताली की प्रसिद्ध नृत्यांगना मांगी बाई (प्रतापगढ़) 
  • कामड़ पंथियों का प्रमुख केंद्र पादरला गांव (पाली) है 
  • इसके अलावा पोकरण जैसलमेर और डीडवाना में कामड़ पंथी पाए जाते हैं 
  • रामदेव जी की फड़ कामड़ जाति के भोपो द्वारा रावण हत्था वाद्ययंत्र द्वारा बाची की जाती है 
  • रामदेव जी के प्रतीक चिन्ह (पूजा के) पगलिया/पगल्या हैं जिन्हें खुले चबूतरे पर छोटी सी गुमटी/ताख/आल्या बनाकर उसमें स्थापित किया जाता है जो प्राय: संगमरमर या पीले पत्थर के होते हैं हरजी गांव जो जालौर में है कपड़े के बने घोड़े जिन्हें मामा जी के घोड़े कहते हैं जो कार्य सिद्धि होने पर चढ़ाए जाते हैं 
  • रामदेव एक मात्र एसे  लोक देवता थे जो कवि भी थे जिनके रचना चोबिस वाणिया है 
  • रामदेव का मुख्य मेला भाद्रपद शुक्ला द्वितीय से एकादशी तक भरता है जिसे मारवाड़ का कुंभ कहा जाता है 
  • इन के दो प्रमुख शिष्य हैं 

    1. हरजी भारी
    2. आई माता

इनके प्रसिद्ध मंदिर 

रामदेवरा जैसलमेर
मसूरिया जोधपुर
बिठूजा बालोतरा
सुरताखेड़ा चित्तौड़गढ़
छोटा रामदेवरा गुजरात

नोट - रामदेव जी के मुस्लिम भक्तों को "चाँयल"कहते हैं।

1. रामदेव जी (Lok devta ramdev ji) किस वंश से सम्बंधित थे ?

  1. तंवर
  2. साँखला
  3. राठोड
  4. चौहान

2. लोकदेवता रामदेव (Lok devta ramdev ji) निम्न में से किन नाम से प्रसिद्ध है ?

  1. रामसा पीर
  2. रुनीचा धनी
  3. बाबा रामदेव
  4. उक्त सभी

3. रामदेवजी के सम्बन्ध में कोनसा कथन असत्य है ?

  1. जोधपुर की मसुरिया पहाड़ी पर इनका मंदिर है
  2. इन्होने पोखरण के भैरव राक्षश का वध किया था
  3. रामदेवरा में चेत्र कृष्णा एकादशी को इनका विशाल मेला भरता है
  4. यह तंवर वंशीय है

4. समाज में व्याप्त छुआछूत आदि बुराईयों को बहिष्कार निम्न में से किस देवता ने शुरू किया ?

  1. पाबूजी
  2. कल्लाजी
  3. मामादेव जी
  4. रामदेवजी

5. निम्न में से कौन रामदेव जी से सम्बंधित नहीं है ?

  1. हड्बू जी
  2. डालीबाई
  3. आईजी माता
  4. केसरिया कुंवर जी

6. रामदेव जी की घोड़ी का नाम क्या था ?

  1. केसर कालमी
  2. नीली घोड़ी
  3. लीला (रेवत)
  4. सिनगारी

7. बाबे री बीज किस लोकदेवता की जन्म तिथि है ?

  1. रामदेव जी
  2. गोगा जी
  3. पाबू जी
  4. हड्बूजी

8. रामदेव जी के देवरों पर लगने वाली पांच रंग की ध्वजा क्या कहलाती है ?

  1. पंचतर
  2. नेजा
  3. चिरंजा
  4. उक्त में से कोई नहीं

9. रामदेव जी के किस भक्त ने एक दिन पहले ही उनके पास जीवित समाधी ले ली थी ?

  1. आईजी माता
  2. शीलाबाई
  3. निजावा माता
  4. डाली बाई

10. कामड जाति की स्त्रियों द्वारा तेरहताली नर्त्य किस लोकदेवता की भक्ति में किया जाता है ?

  1. पाबूजी
  2. गोग्गाजी
  3. रामदेवजी
  4. तेजाजी

11. रामदेवजी के भक्तो द्वारा क्या गाया जाता है ?

  1. कवाल्ली
  2. पवाडे
  3. ब्यावले
  4. उक्त में से कोई नहीं

12. रिखिया से क्या तात्पर्य है ?

  1. रामदेव जी द्वारा प्रचलित कामडिया पंथ
  2. रामदेव जी के मेघवाल भक्त जन
  3. रामदेवरा का मुख्या द्वार
  4. रामदेव जी के मुसलमान भक्त जन

13. चौबीस वाणीया के रचियता कौन है ?

  1. हड्बू जी
  2. रामदेव जी
  3. मेहाजी
  4. कल्ला जी

14. रामदेव जी ने जीवित समाधि कंहा ली थी ?

  1. राम सरोवर रुनीचा
  2. पोखरण जैसलमेर
  3. सुरसुरा अजमेर
  4. गोगामेडी भादरा

15. कामडिया पंथ के प्रवर्तक कौन थे

  1. गोगाजी
  2. पाबूजी
  3. रामदेव जी
  4. गहड्बू जी

16. निम्न में से कोनसे लोक देवता कवि भी थे ?

  1. गोगाजी
  2. पाबूजी
  3. रामदेव जी
  4. चहड्बू जी

17. निम्न में से कोनसा मेला साम्प्रदायिक सदभाव के लिए प्रसिद्ध है ?

  1. गोगा जी का मेला
  2. पाबूजी का मेला
  3. रामदेव जी का मेला
  4. गौतमेश्वर का मेला

18. रामदेव जी का जन्म कंहा हुआ था ?

  1. खोसा सीकर
  2. अमरकोट , पाकिस्तान
  3. अमरकोट , पाकिस्तान
  4. उन्डू/उडुकासमेर बाड़मेर

19. निम्न में से कंहा रामदेव जी का मंदिर नहीं है ?

  1. रुणिचा, जैसलमेर
  2. बिरांतिया अजमेर
  3. धुवन टोंक
  4. सुरताखेडा चित्तोड़ी

20. सामजिक सुधर के लिए जम्मा जागरण अभियान किस लोकदेवता द्वारा चलाया गया था ?

  1. तेजाजी
  2. गोगाजी
  3. रामदेव जी
  4. देवनारायण जी

21. मक्का से चल कर आये पीरो ने किस लोकदेवता को पीरो का पीर की उपाधियां दी थी ?

  1. तेजाजी
  2. गोगाजी
  3. रामदेव जी
  4. देवनारायण जी

Post a Comment

Previous Post Next Post