शुक्रवार, 10 जून 2022

EPFO: खाताधारकों की चमकी किस्मत, EPFO ​​कर्मचारियों को देने जा रहा है ये बड़ा फायदा

नई दिल्ली: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के सदस्यों को झटका लगा है. पिछले हफ्ते वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए 8.1 फीसदी ब्याज दरों (पीएफ ब्याज दरों) की घोषणा की थी। यह पिछले 40 साल में सबसे निचला स्तर है। इससे पहले वित्त वर्ष 2020-21 के लिए ईपीएफ पर ब्याज दर 8.5 फीसदी थी। आपको बता दें कि इसका असर 6.5 करोड़ नौकरीपेशा लोगों पर पड़ेगा।

वहीं सरकार ब्याज दर में कमी के बावजूद नौकरीपेशा लोगों के लिए इसे अच्छा बनाने के लिए ईपीएफओ फंड से शेयर बाजार में निवेश की सीमा बढ़ाने पर विचार कर रही है। जानकारी के मुताबिक महीने के अंत में ईपीएफओ सेंट्रल बॉडी ऑफ ट्रस्टीज की अहम बैठक होने जा रही है, जिसमें फैसला लिया जा सकता है.

फिलहाल EPFO ​​फंड से शेयर बाजार में अधिकतम 15 फीसदी तक निवेश किया जा सकता है. इकोनॉमिक टाइम्स में एक रिपोर्ट छपी थी जिसमें बताया गया था कि ईपीएफओ की ओर से इस सीमा को बढ़ाकर 25 फीसदी करने का प्रस्ताव दिया गया है. दरअसल, चूंकि डेट फंडों को अपेक्षित रिटर्न नहीं मिल रहा है, इसलिए इक्विटी में निवेश करके पर्याप्त रिटर्न पाने की कोशिश की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक, प्रस्ताव पर विचार करने के लिए दो सप्ताह पहले वित्त निवेश एवं लेखा परीक्षा समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई थी. इसके बाद समिति की ओर से ईपीएफओ केंद्रीय न्यासी निकाय के समक्ष प्रस्ताव पेश किया जाएगा। इस महीने के अंत तक केंद्रीय न्यासी निकाय की बैठक होने की संभावना है। बैठक में प्रस्ताव पर चर्चा के बाद इसे अंतिम मंजूरी के लिए श्रम एवं वित्त मंत्रालय के पास भेजा जाएगा।

मिली रिपोर्ट के मुताबिक निवेश समिति ने इसे दो चरणों में बढ़ाने का फैसला किया है. इसमें पहले 15 फीसदी की सीमा बढ़ाकर 20 फीसदी और फिर 25 फीसदी करने का सुझाव दिया गया है. जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि ईएफओ ईटीएफ की मदद से शेयर बाजार में निवेश करता है।