बुधवार, 15 जून 2022

चाणक्य नीति : समझदार, मूर्ख, अहंकारी व्यक्ति से काम करवाने के लिए चाणक्य के इन तरीकों का करें पालन

चाणक्य नीति : समझदार, मूर्ख, अहंकारी व्यक्ति से काम करवाने के लिए चाणक्य के इन तरीकों का करें पालन

चाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में जीवन के कई पहलुओं का वर्णन किया है। उनकी नीतियां हर कदम पर व्यक्ति की हर कसौटी पर खरी उतरी हैं। कभी-कभी हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए दूसरों की मदद लेनी पड़ती है। आचार्य ने इस संबंध में एक नीति दी है। इस नीति में चाणक्य ने बताया है कि हम किस व्यक्ति से अपना काम कैसे करवा सकते हैं। चाणक्य एक श्लोक के माध्यम से लोगों को वश में करने की नीति बताते हैं।


लुब्धमार्थेन गृहनियत स्टडमांजलिकर्मना।

मूर्ख चंदनुव्रत्य चा यथत्तवैन पंडितम्।


आचार्य चाणक्य कहते हैं कि हमारे आसपास कई तरह के लोग होते हैं। कोई धन का लालची होता है तो कोई अहंकारी। कुछ मूर्ख हैं और कुछ बुद्धिमान हैं। इन लोगों को अलग-अलग तरीकों से वश में किया जा सकता है।

समझ

यदि आप अपना काम किसी विद्वान और बुद्धिमान व्यक्ति से कराना चाहते हैं तो उसके सामने केवल सच बोलें। समझदार लोग सच बोलने वाले लोगों से प्रभावित होते हैं और उनकी मदद के लिए हर संभव कोशिश करते हैं। ऐसे लोगों से संबंध हमेशा बनाए रखने चाहिए।

बेवकूफ

चाणक्य कहते हैं कि यदि कोई मूर्ख व्यक्ति कुछ काम करवाना चाहता है, तो उसके अनुसार कार्य करें। आप इसी तरह अपना काम निकालने की कोशिश कर सकते हैं। उसके साथ बहस करने में समय बर्बाद न करें। ऐसे लोग हमेशा अपने मन मुताबिक काम करना पसंद करते हैं। उन्हें झूठी प्रशंसा भी पसंद है।

अहंकारी

अभिमानी व्यक्ति अपने सामने किसी को नहीं मानता। उन्हें लगता है कि वे जो कुछ भी करते हैं, वही सच कहते हैं। इसलिए यदि उन्हें कार्य करना है तो उन्हें उचित सम्मान देकर आपके पक्ष में किया जा सकता है। ऐसे लोग प्रतिष्ठा पाने के लिए काम करते हैं।