माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल (Microsoft Excel) Part - III चार्ट (Chart)

माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल (Microsoft Excel) Part - III

चार्ट (Chart)

एक चार्ट आंकड़ों का आलेखीय प्रस्तुतिकरण है, जिसमें आंकड़ों को प्रतीक द्वारा दर्शाया जाता है, जैसे बार चार्ट में बार के रूप में, रेखा चार्ट में रेखाओं के रूप में, या पाइ चार्ट में टुकड़ों के रूप में। 
एक चार्ट में सारणीबद्ध सांख्यिक आंकड़ों, प्रकार्यों या किसी प्रकार की गुणात्मक संरचनाओं को प्रदर्शित किया जाता है। 

चार्ट के निम्न तत्व है

1. टाइटल (Title)- 

यह चार्ट और उसके दोनों अक्षों (एक्स और वाई) के शीर्षक होते हैं । शीर्षक से अक्षों के मान का अर्थ और चार्ट की अंतर्वस्तु का पता चलता है।

2. एक्सेस (Axes)- 

किसी चार्ट के दो अक्ष होते हैं जिन्हें x (एक्स) और y (वाई) कहा जाता है। X- अक्ष समतल अक्ष होता है जिसे वर्ग (Category) अक्ष कहते हैं । Y अक्ष लम्बवत अक्ष है जिसे मान (Values) अक्ष कहते हैं प्रत्येक अक्ष एक पैरामीटर को व्यक्त करता है जिसके मान उस अक्ष पर रेखाओं या बिन्दुओं द्वारा दिखाया जाता है। 

3. डाटा श्रेणियाँ (Data Series)- 

चार्ट में जिन वैल्यू समूहों को प्रदर्शित करना होता है उन्हें डाटा श्रेणियाँ कहते हैं। 

4. चार्ट क्षेत्र (Chart area)- 

यह चार्ट के द्वारा घिरा हुआ कुल क्षेत्र होता है।

5. संकेत (Legends)- 

सामान्यतः प्रत्येक डाटा श्रेणी के लिए एक संकेत होता है, जो चार्ट में दिखाया जाता है। इसके द्वारा चार्ट में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के कॉलमों, रेखाओं, बिन्दुओं एवं रंगों का अर्थ बतलाया जाता है।

6. ग्रिड लाइनें (Gridlines)- 

ये क्षैतिज और लम्बवत पंक्तियाँ होती है जिनसे प्रत्येक डाटा श्रेणी के मानों (Values) का स्तर पता चलता है। ये दो प्रकार की होती है- 
  • (i) मुख्य (Major) 
  • (ii) गौण (Minor) 

7. डाटा लेबल (Data Labels)- 

इसके द्वारा डाटा श्रेणी के Values के बारे में अतिरिक्त सूचना प्राप्त होती है। ये किसी डाटा श्रेणी के वास्तविक मान होते हैं जिसे चार्ट में उस मान को व्यक्त करने वाले कॉलम रेखा या चिह्न के पास दिखाये जाते हैं।

8. डाटा सारणी (Data Table)- 

यह डाटा श्रेणियों के सभी मान (Values) को प्रदर्शित करने वाली एक साधारण सारणी होती है। 

चार्ट का उपयोग करना (Use of Chart).- 

एक्सेल User को चार्ट बनाने और डेटा को चार्ट के रूप में प्रदर्शित करने की सुविधा प्रदान करता है। किसी भी प्रकार के डेटा का अच्छी तरह विश्लेषण करने के लिए चार्ट का प्रयोग किया जाता है। चार्ट बनाने के लिए नीचे दी गई निम्न स्टेप्स का प्रयोग करें।
  • सबसे पहले वह सेल रेंज सलेक्ट करें, जिसे चार्ट के रूप में प्रदर्शित करना चाहते हैं। 
  • इन्सर्ट मेन्यु में जाकर चार्ट समूह से चार्ट का प्रकार सलेक्ट करें । यहाँ कई प्रकार के चार्ट (जैसे- कॉलम चार्ट, लाईन चार्ट, पाई आदि) पाये जाते हैं।
  • यदि आप सभी प्रकार के चार्ट को एक स्थान पर प्रदर्शित करना चाहते हैं तो चार्ट सूची से Create Chart बटन पर क्लिक करें। चार्ट डायलॉग बॉक्स निम्न प्रकार प्रदर्शित होगा।
  • यहाँ से User अपनी आवश्यकतानुसार चार्ट का चुनाव करें। इससे एक्सेल वर्तमान वर्कशीट में निम्न चित्रानुसार चार्ट स्थापित कर देगा।
  • अब आप चार्ट टूल का प्रयोग करते हुए चार्ट डिजाइन, लेआउट फॉरमेट आदि बदल सकते हैं ।
चार्ट बनाने और उसे सलेक्ट करने पर तीन (Design, Layout, Format) मेन्यू और प्रदर्शित हो जाएंगे। इसमें Design मेन्यू द्वारा आप चार्ट का डिजाईन व स्टाइल बदल सकते हैं। Layout मेन्यू का उपयोग चार्ट का लेआउट को बदलने या प्रदर्शित करने के लिए किया जाता हैं। इसी प्रकार Format मेन्यू का उपयोग चार्ट और उसके डेटा को फॉरमेट करने के लिए किया जाता हैं

उदाहरण यदि User उपरोक्त चार्ट में उसके Legend को चार्ट के नीचे प्रदर्शित करना चाहता हैं तो उसे Layout मेन्यू में जाकर Legent आइकन पर क्लिक करके Show Legend bottam ऑप्शन सलेक्ट करना होगा। यदि User चार्ट में प्रभाव डालना चाहता हैं तो उसे Format मेन्यू से Shape Effects ऑप्शन सलेक्ट करना होगा। ।

चार्ट का संशोधन (Modifying a Chart) 

चार्ट द्वारा डाटा को कुशलता से प्रदर्शित किया जाये इसके लिए आवश्यक है कि बनाये गये चार्ट में आवश्यकतानुसार संशोधन किये जायें। 

a) चार्ट का गमन (Moving a chart)—

चार्ट को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने का सबसे सरल तरीका है कि चार्ट पर माउस के द्वारा क्लिक करना तथा उसके बाद drag a drop विधि द्वारा इस वर्कशीट पर आवश्यकतानुसार उपयुक्त स्थान पर ले जाना। किसी चार्ट को एक वर्कशीट से दूसरी वर्कशीट में copy, paste विधि द्वारा ले जाया जा सकता है। 

b) चार्ट आकार में परिवर्तन (Resizing a chart)

चार्ट पर क्लिक किया जाता है। उसके बाद माउस पाइन्टर को चार्ट के किसी किनारे पर ले जाते हैं जिससे माउस पाइन्टर दो मुँह का बन जाता है। इसके बाद माउस के बायें बटन को दबाकर किनारे को खिसका कर इच्छित आकार प्रदान किया जा सकता है।

c) चार्ट को मिटाना (Deleting a chart) 

चार्ट को मिटाने के लिए चार्ट में किसी भी स्थान पर क्लिक करते हैं। उसके बाद Delete कुंजी को दबाते हैं या माउस के दाहिने बटन को दबाते हैं जिससे popup मैन्यु दिखाई देता है। उसमें cut का चयन करने पर चार्ट मिट जाता है।

d) चार्ट की एडिटिंग (Editing a chart) 

उपयोगकर्ता अपनी इच्छानुसार चार्ट की किसी भी इकाई को एडिट कर सकता है। किसी टैक्स्ट की किसी इकाई (cell) जैसे अक्ष का शीर्षक आदि को एडिट करने के लिए इकाई पर कहीं भी क्लिक करके, शेष प्रक्रिया सामान्य एडिटिंग जैसी ही अपनाई जाती है। चार्ट में किये गये परिवर्तन को प्रवेश कराने के लिए चार्ट में किसी अन्य स्थान पर क्लिक करते हैं।

e) किसी इकाई को चार्ट में से हटाना (removing an element from a chart)—

जिस इकाई को हटाना हो उस पर जाकर माउस के दाहिने बटन को क्लिक करते हैं व content मेन्यु के clear बटन को दबाते हैं। 

f) किसी इकाई को चार्ट में प्रवेश कराना (Insert Elements in a chart)—

चार्ट के अन्दर खाली स्थान में माउस द्वारा दाहिना बटन क्लिक करते हैं फिर content मेन्यु में चार्ट विकल्प को चुना जाता है। जिससे चार्ट विकल्प का डायलॉग बाक्स प्रदर्शित होता है। उसके बाद इच्छित इकाई को एन्टर कर दिया जाता है।

g) एक चार्ट को दूसरे चार्ट में परिवर्तन करना (Changing a chart to Another chart)—

एक्सल में एक चार्ट से दूसरा चार्ट में परिवर्तन बहुत आसान है। इसके लिए चार्ट के खाली स्थान पर माउस द्वारा दाहिने बटन को क्लिक किया जाता है और content मेन्यु के चार्ट टाइप का चयन किया जाता है जिससे चार्ट विज़ार्ड के समान डायलॉग बॉक्स प्रदर्शित होता है और उसकी मदद से चार्ट  बनाया जा सकता है।

विभिन्न प्रकार के चार्ट (Different Types of Charts)-

एक्सेल में निम्न प्रकार के चार्ट उपलब्ध होते हैं

1. स्तंभ चार्ट्स (Columns Chart)- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा स्तंभ चार्ट में प्लॉट मान को लम्बवत कॉलम के रूप में दिखाया जाता है। यह चार्ट समयबद्ध किया जा सकता है। इसके द्वारा किसी अंतराल पर डाटा में परिवर्तन को प्रदर्शित करता है और मदों (items) के बीच तुलना भी बतलाता है। कोई स्तंभ चार्ट क्षैतिज (श्रेणी) अक्ष और अनुलंब (मान) अक्ष पर श्रेणियों को विशेष रूप से प्रदर्शित करता है। 

2. रेखा चार्ट्स (Line Chart)- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा, रेखा चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। इसमें विभिन्न डाटा श्रेणियों के मानों को विभिन्न बिन्दुओं द्वारा दिखाया जाता है जिन्हें सरल रेखाओं से जोड़ दिया जाता है। यह समान अंतराल पर डाटय के रूझान (Trend) को प्रदर्शित करता है। किसी रेखा चार्ट में, श्रेणी डेटा क्षैतिज अक्षों पर समान रूप से वितरित किया जाता है, और सभी मान डाटा अनुलंब अक्षों पर समान रूप से वितरित किए जाते हैं। रेखा चार्ट्स किसी समान रूप से स्केल किये गए अक्ष पर निरंतर डेटा दिखा सकते हैं और इसीलिए वह समान अंतरालों, जैसे महीनों, तिमाहियों या वित्त वर्षों, में डाटा के रुझानों को प्रदर्शित करने के लिए आदर्श है। 

3. पाइ चार्ट्स (Pie Chart)- 

किसी कार्यपत्रक में एक स्तंभ या पंक्ति में व्यवस्थित किया गया डेटा पाइ चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है अर्थात् विभिन्न मानों को एक वृत्त के विभिन्न भागों या सेक्टरों द्वारा दिखाया जाता है। प्रत्येक भाग का आकार उसके मान के अनुपात में होता है। इसमें एक डाटा श्रेणी को दिखाया जाता है। किसी पाइ चार्ट में डाटा बिंदु संपूर्ण पाइ के प्रतिशत के रूप में प्रदर्शित किए गए हैं।

4. डोनट चार्ट्स- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा किसी डोनट चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। किसी पाइ चार्ट की तरह, 'डोनट चार्ट भागों के किसी संपूर्ण से संबंध को प्रदर्शित करता है, लेकिन इसमें एक से अधिक डाटा शृंखला हो सकती है।

5. पट्टी चार्ट्स (Bar Chart)- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा, पट्टी चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। इसमें विभिन्न डाटा श्रेणियों के मानों को क्षैतिज बारों (Hori-zontal Bars) द्वारा दिखाया जाता है। इसमें व्यक्तिगत मदों के बीच तुलना को व्यक्त किया जाता है। पट्टी चार्ट्स व्यक्तिगत आइटम्स में तुलना को प्रदर्शित करते हैं। किसी पट्टी चार्ट में, श्रेणियों को विशिष्ट रूप से अनुलंब अक्ष पर और मान को डाटा व्यवस्थित किया जाता है।

6. क्षेत्र चार्ट्स (Area Chart)- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा, क्षेत्र चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। इसमें विभिन्न मानों को लाइनों के नीचे के क्षेत्र के द्वारा दिखाया जाता है। यह समयबद्ध परिवर्तन की मात्रा को व्यक्त करता है। क्षेत्र चार्ट्स का उपयोग समय पर परिवर्तन प्लॉट करने के लिए और किसी रुझान में कुल योग मान के प्रति ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जा सकता है। प्लॉट किए गए मानों के कुल योग को दिखाते हुए, कोई क्षेत्र चार्ट संपूर्णता के साथ भागों का संबंध भी दिखाता है। 

7.XY (स्कैटर) चार्ट्स- 

इसके द्वारा विभिन्न डाटा श्रेणियों में संख्यात्मक मान के बीच संबंधों को प्रदर्शित किया जाता है। किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा किसी xy (स्कैटर) चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। किसी एक पंक्ति या स्तंभ में x मान स्थित करें और फिर संगत  y मानों को संलग्न पंक्तियों या स्तंभों में दर्ज करें।

8. बबल चार्ट्स-

किसी स्कैटर चार्ट की ही तरह, बबल चार्ट भी उसके द्वारा डेटा श्रृंखला में डाटा बिंदुओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए दिखाए जाने वाले बबल्स के आकार को निर्दिष्ट करने हेतु एक तृतीय स्तंभ जोड़ता है। 

9. स्टॉक चार्ट्स- 

किसी कार्यपत्रक में एक विशिष्ट क्रम में स्तंभों या रेखाओं में व्यवस्थित किया गया डाटा किसी स्टॉक चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, स्टॉक चार्ट्स स्टॉक मूल्यों में उतारचढ़ावों को दर्शा सकते हैं। हालाँकि, यह चार्ट अन्य डाटा में उतार-चढ़ावों को भी दर्शा सकता है, जैसे दैनिक वर्षा या वार्षिक तापमान। सुनिश्चित करें कि आप एक स्टॉक चार्ट बनाने के लिए अपना डाटा सही क्रम में व्यवस्थित करते हैं।

10. सरफेस चार्ट्स- 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा, सरफेस चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। यह चार्ट तब उपयोगी होता है, जब आप डाटा के दो सेट्स के बीच अधिकतम संयोजनों को ढूँढना चाहते हैं । जैसा स्थलाकृतिक मानचित्रों में दिखाया जाता है, रंग और प्रतिमान उन क्षेत्रों को इंगित करते हैं, जो मानों की समान श्रृंखला में हैं। जब श्रेणियाँ और डाटा शृंखला दोनों ही संख्यात्मक मान हों, तो आप सरफेस चार्ट बना सकते हैं।

11. रडार चार्ट्स - 

किसी कार्यपत्रक में स्तंभों या पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा, रडार चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। रडार चार्ट्स अनेक डाटा श्रृंखला के समेकित मानों की तुलना करते हैं। 

12. कॉम्बो चार्ट्स- 

स्तंभों और पंक्तियों में व्यवस्थित किया गया डाटा किसी कॉम्बो चार्ट में प्लॉट किया जा सकता है। कॉम्बो चार्ट्स द्वारा डाटा को समझने में सरल बनाने के लिए दो या अधिक चार्ट प्रकारों को संयोजित किया जाता है, विशेष रूप से जब डाटा बहुत भिन्न-भिन्न हों। किसी द्वितीयक अक्ष के साथ दिखाया गया यह चार्ट पढ़ने में अधिक सरल है। - -

चार्ट बनाना- 

MS Excel में दो आयामी (2D) या त्रिआयामी (3D) चार्ट सरलता से बनाया जा सकता है। चार्ट बनाने के लिए Chart toolbar या chartwizard प्रोग्राम का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें बने चार्ट को सुधारा, छिपाया या दूसरे प्रोग्रामों यथा MS Word से MS Power Point में ले जाया जा सकता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post